Khabar Aajkal

हिमखंड के टूट जाने से आए बाढ़ में 14 की मौत, 170 अभी भी लापता।
Spread the love

उत्तराखंड आपदा: हिमखंड के टूट जाने से आए बाढ़ में 14 की मौत, 170 अभी भी लापता।

देहरादून: उत्तराखंड की आए बाढ़ को देख कर केदारनाथ की यादे ताज़ा हो गई है। हिमस्खलन से तबाह हुआ इलाका। रविवार को तेज ज्वार की तेज़ लहर के बाद एक के बाद एक गांव बह गए। चमोली और जोशीमठ धौलीगंगा, अलकनंदा, ऋषि गंगा के पानी में नष्ट हो गए।

अब तक 14 लोगों की मौत की सूचना है। कम से कम 160 लोग लापता हैं।

बीते दिन चमोली जिले में हिमस्खलन हुआ। ग्लेशियर टूटने के बाद पानी कम होने लगा। चमोली जिले के तपोवन क्षेत्र के रानी गाँव के आसपास का इलाका ऋषिगंगा बिजली परियोजना के एक ग्लेशियर के ढहने के कारण बह गया है। रैनी गांव क्षेत्र में जल विद्युत परियोजना जलभराव के कारण क्षतिग्रस्त हो गई है। ऋषि गंगा बिजली परियोजना पर काम करने वाले कई श्रमिक लापता हैं।

एनडीआरएफ, आईटीबीपी और सेना के जवानों ने बचाव अभियान शुरू कर दिया है।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत स्थिति देख रहे हैं। मृतकों के परिजनों को चार लाख रुपये का आर्थिक मुआवजा देने की घोषणा की गई है। प्रधान मंत्री राहत योजना ने मृतकों के लिए 2 लाख रुपये और गंभीर रूप से घायलों के लिए 50,000 रुपये देने की घोषणा की गई है।
बचाव कार्य अभी भी जारी है। आठ साल पहले, 2013 में केदारनाथ में आए बाढ़ ने 5,600 से अधिक लोगों की जान ले ली थी।


Spread the love
News cordinator and Advisor at Khabar Aajkal Siliguri

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Like Us on Facebook, It's Free 😉